अर्थव्यवस्था

हमारे देश भारत में दुमका भविष्य का रेशम शहर है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि यह भारत का सबसे बड़ा रेशम उत्पादक जिला है।

रेशम एक प्राकृतिक प्रोटीन फाइबर है और यह वस्त्रों में बुना जा सकता है। रेशम का प्रोटीन फाइबर कोकून बनाने के लिए कुछ कीट लार्वा द्वारा उत्पादित किया जाता है। दुमका के सभी 10 ब्लॉकों में कोकून का उत्पादन होता है लेकिन काठीकुंड, गोपीकरंदर, शिकारीपारा, रानीश्वर , मसलिया और सरैयाहाट जैसे 6 ब्लाक मुख्य उत्पादक हैं, इस वित्तीय वर्ष में लगभग 79674735 कोकून का उत्पादन किया गया है। दुमका ने भी 1827457 कोकून को रोगमुक्त उत्पादन किया है। विडंबना यह है कि रेशम बस्त्र के उत्पादन के लिए कोई उद्योग या लघु उद्योग नहीं है। भागलपुर को रेशम शहर के रूप में जाना जाता है, लेकिन भागलपुर कोकून का उत्पादन नहीं करता है।

दुमका जिला के तीन प्रखंड काठीकुंड, गोपीकांदर, शिकारीपारा में बड़ा उद्योग या लघु उद्योग स्थापित करने के लिए भारी संभावना हैं
औधोगिक क्षेत्र दुमका:-

औधोगिक क्षेत्र दुमका:-
क़ स. औधोगिक क्षेत्र का नाम अधिग्रहित भूमि (हक्टैर में) भूमि विकास

(हक्टैर में)

संभाबित मूल्य  प्रति वर्ग फीट (रुपया में) प्लाट की संख्या आवंनटित प्लाट की संख्या रिक्त प्लाट की संख्या उत्पादन इकाई की संख्या
1. औधोगिक क्षेत्र दुमका 6.088 6.088 19.00 13 13 03 10
उधोग एक नज़र में :
क़ स. शीर्ष इकाई विवरण
1 पंजीकृत औद्योगिक इकाई नहीं 2241
2 कुल औद्योगिक इकाई नहीं 2241
3 पंजीकृत मध्यम और बड़े यूनिट नहीं शुन्य
4 अनुमानित औसत लघु उद्योगों में नियोजित दैनिक कार्यकर्ता की संख्या नहीं 38
5 बड़े और मध्यम उद्योगों में रोजगार नहीं शुन्य
6 औद्योगिक क्षेत्र की संख्या नहीं 1